ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश अन्य राज्य अंतर्राष्ट्रीय मनोरंजन खेल बिजनेस लाइफस्टाइल आध्यात्म अन्य खबरें
आर्थिक रूप से पिछड़े बच्चों के जीवन में बदलाव के लिये अनूठी पहल "A Smile"
December 7, 2019 • Edge express • लाइफस्टाइल

लखनऊ। आर्थिक और सामाजिक रूप से पिछड़े वर्ग के बच्चों के जीवन में बदलाव लाने के लिये उनकी षिक्षा के खर्चो के लिये प्रोटेक्ट "अ स्माइल" प्रयास की शुरूआत की गयी है। इन प्रयासों के तहत मैक्स लाइफ इंश्योरेन्स ने सामाजिक संगठन ऑल इंडिया सिटीजंस अलायंस फॉर प्रोग्रेस एंड डेवलपमेंट (एआईसीएपीडी) के साथ मिलकर कदम उठाया है। इन प्रयासों के तहत मैक्स वित्तीय वर्ष के अंत तक टर्म इंश्योरेन्स प्लान में किसी मृत्यु के दावे का निपटाना करने पर पिछड़े तबके के बच्चे की एक वर्ष की शिक्षा का खर्च वहन किया जायेगा। 

इस प्रयास के माध्यम से जीवन बीमा पॉलिसी से न सिर्फ पॉलिसीधारक के परिवार को वित्तीय सुरक्षा मिलेगी बल्कि पिछड़े तबके के बच्चों के जीवन में बदलाव लाकर समाज को सशक्त बनाने की दिशा में भी काम होगा जिनके पास शिक्षा तक पहुंच न के बराबर है। इस प्रयास के बारे में आलोक भान, निदेशक एवं मुख्य मार्केटिंग अधिकारी, मैक्स लाइफ ने कहा, “जीवन बीमा परिवार के सबसे अहम और मुश्किल पलों में उनको सहयोग देती है जो उनके किसी प्रियजन के न होने से पैदा होती है। 

हालांकि किसी प्रियजन के न रहने की कमी की भरपाई कोई नहीं कर सकता है,लेकिन किसी दूसरे के जीवन में बदलाव लाकर अपने प्रियजन को सम्मानित किया जा सकता है। नए प्रयास “प्रोटेक्ट अ स्माइल” के अंतर्गत मैक्स लाइफ एआईसीएपीडी के साथ मिलकर परिवार के प्रियजन की याद में एक कदम और आगे बढ़ेगी और इसके लिए उनकी ओर से समाज के पिछड़े तबके के बच्चों के भविष्य को बेहतर बना रहे हैं और इस तरह बेहतर भविष्य तैयार करने में योगदान दे रही है। 

जीवन बीमा कंपनी के आठवें प्रोटेक्शन डे के मौके पर शुरू किया गया प्रयास समुदाय को जीवन की मुश्किलों से बचाने और वित्तीय रूप से सुरक्षित समाज तैयार करने की दिशा में मैक्स लाइफ की प्रतिबद्धता को दर्शाता है जिसकी जड़ें देखभाल और शांति में हैं। अपने “प्रोटेक्ट अ स्माइल” के माध्यम से मैक्स लाइफ का उद्देश्य पॉलिसीधारकों की विरासत को समृद्ध बनाना है। आठ महीने पहले कंपनी ने घोषणा की थी कि वह हर कैलेंडर महीने की 6 तारीख को प्रोटेक्शन डे के तौर पर मनाएगी और वित्तीय सुरक्षा की दिशा में जागरूकता बढ़ाने के लिए काम करेगी।