ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश अन्य राज्य अंतर्राष्ट्रीय मनोरंजन खेल बिजनेस लाइफस्टाइल आध्यात्म अन्य खबरें
अमन की ओर लौट रहा उत्तर प्रदेश, हिंसा में शामिल 879 लोग गिरफ्तार
December 23, 2019 • Edge express • अन्य खबरें

लखनऊ। नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act) के विरोध में हुई हिंसा में शामिल लोगों पर पुलिस का शिकंजा कसने लगा है।इस बीच पुलिस की कड़ी चौकसी के चलते प्रदेश भर में शांति का माहौल व्याप्त रहा। पुलिस द्वारा अब तक दर्ज कुल 164 मुकदमे में 879 लोग गिरफ्तार हुए हैं। उपद्रवियों कि गिरफ्तारी के लिए पुलिस लगातार दबिश दे रही है, जहां कुछ जगहों पर उसे विरोध का सामना भी करना पद रहा है। सूबे में 5312 लोगों को शांति भंग की आशंका में पाबंद किया गया।

प्रदर्शनों के दौरान कुछ जिलों में उपद्रवियों ने अवैध असलहों का धड़ल्ले से प्रयोग किया। खासतौर पर फिरोजाबाद, बिजनौर व मुजफ्फरनगर से 35 अवैध असलहे और 69 जिंदा कारतूस बरामद किए गए हैं। इस दौरान 647 कारतूस के खोखे भी बरामद किए गए हैं। हिंसक प्रदर्शनों के दौरान उपद्रवियों के हमले में अब तक 288 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं जिनमें 61 पुलिसकर्मी गोली लगने से घायल हुए हैं।

हिंसक प्रदर्शनों में शामिल अराजक तत्वों की पहचान वीडियो फुटेज के आधार पर की जा रही है। कुछ जिलों में हिंसा में शामिल लोगों की पहचान के लिए सार्वजनिक स्थानों पर होर्डिंग्स भी लगायी गयी हैं। सुप्रीम कोर्ट के दिशा-निर्देशों के अनुसार सार्वजनिक व निजी संपत्तियों को हुई क्षति का आकलन कराया जा रहा है। इसके लिए जिला प्रशासन के स्तर से टीमें गठित की गई हैं। क्षति का आकलन होने के बाद उसके लिए जिम्मेदार लोगों को चिह्नित करके वसूली के नोटिस दिए जाएंगे।

फिरोजाबाद में बवाल के मामले में अब तक 15 मुकदमे दर्ज किए गए हैं। पुलिस ने बताया कि मुकदमों में अब तक 26 की पहचान की जा चुकी है। वहीं अलीगढ़ में पुलिस ने वीडियो फुटेज से पथराव करने वाले 35 उपद्रवियों को चिह्नित कर उनके पोस्टर सार्वजनिक स्थानों पर चस्पा करा दिए। पोस्टरों के माध्यम से पुलिस ने उपद्रवियों के नाम-पते जुटाना शुरू कर दिया है। कुछ उपद्रवियों को चिह्नित कर लिया गया है, उनकी तलाश में ताबड़तोड़ दबिश भी शुरू कर दी है।

गोरखपुर पुलिस ने पथराव करने के तीन आरोपितों समेत 23 लोगों को गिरफ्तार कर रविवार को जेल भेज दिया। इनमें से 20 लोगों को पुलिस ने शांतिभंग की आशंका में गिरफ्तार किया है।जबकि महाराजगंज में नागरिकता कानून के विरोध में जुलूस निकालने की कोशिश में गिरफ्तार किए गए भीम आर्मी के नौ लोगों को शांतिभंग की धारा में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। जिले में अभी भी धारा 144 लागू है। ऐसे में बिना अनुमति जुलूस, धरना-प्रदर्शन प्रतिबंधित है। उधर भदोही में जुमे की नमाज के बाद शुक्रवार को कालीन नगरी में हुए बवाल के 15 आरोपितों को जेल भेज किया गया है, जबकि दो दर्जन को शांति भंग में पाबंद किया गया है।

फर्रुखाबाद में जुमे की नमाज के बाद शहर में उपद्रव करने वाले आधा दर्जन बवालियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। मऊदरवाजा और शहर कोतवाली पुलिस ने दो दर्जन से अधिक और बवालियों को चिन्हित कर लिया है। जल्द ही और बवाली गिरफ्त में होंगे। श्रावस्ती और अयोध्या में सोशल मीडिया पर भड़काऊ मैसेज करने पर अब तक तीन लोग गिरफ्तार किए गए हैं। इनमें से दो लोगों को श्रावस्ती और एक लोगों को अयोध्या से गिरफ्तार किया गया है।