ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश अन्य राज्य अंतर्राष्ट्रीय मनोरंजन खेल बिजनेस लाइफस्टाइल आध्यात्म अन्य खबरें
अतीक के छोटे भाई अशरफ पर कसेगा शिकंजा
February 2, 2020 • Edge express • अन्य खबरें

प्रयागराज। रंगदारी वसूलने और हत्या की धमकी देने के आरोप में जिला न्यायालय ने एक लाख के इनामी फरार पूर्व विधायक अशरफ उर्फ खालिद अजीम की संपत्ति की कुर्की का आदेश दिया है। इलाहाबाद पश्चिमी विधानसभा सीट से समाजवादी पार्टी के टिकट पर विधायक रहा अशरफ अहमदाबाद जेल में बंद बाहुबली नेता अतीक अहमद का छोटा भाई है।

बहुजन समाज पार्टी के विधायक रहे राजू पाल की हत्या के मामले में भी नामजद अशरफ तीन वर्ष से फरार चल रहा है। इससे पहले भी कई बार अशरफ की संपत्ति कुर्क करने का आदेश हो चुका है। रंगदारी और जान से मारने की धमकी के मामले में अशरफ उर्फ खालिद अजीम पर एफआईआर दर्ज हुई थी। पुलिस ने अशरफ के विरुद्ध फरारी वारंट तमीला कर दिया था। अशरफ पर धूमनगंज थाने में कोर्ट की अवहेलना करने के मामले में 174ए के तहत मामला भी दर्ज कर लिया गया था। अशरफ इसके बावजूद न ही कोर्ट में हाजिर हुआ और न ही दबिश के दौरान पकड़ में आया। जिसके बाद कोर्ट ने विवेचक की अर्जी पर सुनवाई करते हुए अशरफ की संपत्ति कुर्क करने का आदेश जारी कर दिया। पूर्व विधायक अशरफ पर बहुजन समाज पार्टी के विधायक राजू पाल की हत्या करने के साथ प्रयागराज के विभिन्न थानों में तीन दर्जन से अधिक मामलें दर्ज हैं।


अहमदाबाद जेल में बंद पूर्व सांसद अतीक अहमद का पुत्र उमर अहमद सीबीआइ के हाथ नहीं आ रहा है। देवरिया जेल कांड के मुकदमे मेें गैर जमानती वारंट जारी होने के बाद से उमर अपने घर नहीं आया है। अतीक का भाई पूर्व विधायक अशरफ तीन वर्ष से फरार है। एसपी सिटी बृजेश श्रीवास्तव ने बताया कि उमर को सीबीआइ तलाश रही है।

लखनऊ के रीयल एस्टेट कारोबारी मोहित जायसवाल को 26 दिसंबर 2018 को बंधक बनाकर देवरिया जेल ले जाया गया था। आरोप है कि उस समय वहां बंद अतीक अहमद और उनके करीबियों ने उनकी पिटाई की। मोहित ने लखनऊ के आलमबाग थाने में मुकदमा दर्ज कराया था। बाद में सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर जांच शुरू करते हुए सीबीआइ ने बीते वर्ष 13 जून को अतीक अहमद और उनके पुत्र उमर अहमद समेत अन्य के खिलाफ मुकदमा लिखा था। इस मामले में सीबीआइ ने चार्जशीट दाखिल कर दी है। अतीक बीती जून से अहमदाबाद जेल में बंद हैैं और उनका पुत्र उमर सीबीआइ के गैर जमानती वारंट जारी करने के बाद से फरार है। सीबीआइ उसकी तलाश में लखनऊ सहित कई स्थानों पर छापेमारी कर चुकी है।