ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश अन्य राज्य अंतर्राष्ट्रीय मनोरंजन खेल बिजनेस लाइफस्टाइल आध्यात्म अन्य खबरें
भारत में जल्द आ सकता है दुनिया का पहला पुरुष गर्भनिरोधक इंजेक्शन...
November 19, 2019 • Jyoti Singh • लाइफस्टाइल

ICMR (भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद) के एक प्रोजेक्ट में शामिल शोधकर्ताओं के अनुसार, दुनिया के पहले इंजेक्टेबल पुरुष गर्भनिरोधक के क्लिनिकल परीक्षण को सफलतापूर्वक पूरा कर लिया है, जिसे ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया को मंजूरी के लिए भेजा गया है। शोधकर्ताओं ने बताया कि ये गर्भनिरोधक 13 वर्षों के लिए प्रभावी है, जिसके बाद यह अपनी शक्ति खो देता है। यह इंजेक्शन सर्जिकल पुरुष नसबंदी या वासेक्टोमी (Vasectomy) को रिप्लेस कर सकता है, जो दुनिया में उपलब्ध एकमात्र पुरुष वासेक्टोमी विकल्प है।

आईसीएमआर के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. आरएस शर्मा का कहना है कि ड्रग्स कंट्रोलर के पास केवल रेगुलेट्री अप्रूवल पेंडिंग है, प्रोडक्ट तैयार है। परीक्षण समाप्त हो चुके हैं जिनमें 3 चरणों पर क्लिनिकल परीक्षण किए गए हैं। इस इंजेक्शन के ट्रायल के लिए 303 उम्मीदवारों को 97.3% सफलता मिली है और वो भी बिना किसी दुष्प्रभाव के इस प्रोडक्ट को सुरक्षित रूप से दुनिया का पहला पुरुष गर्भनिरोधक कहा जा सकता है।

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च भारत में बायोमेडिकल रिसर्च के लिए शीर्ष स्तर पर है। यह भारत सरकार द्वारा केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय में चिकित्सा अनुसंधान विभाग के माध्यम से फंड प्राप्त करता है जबकि अमेरिका में शोधकर्ता एक समान गर्भनिरोधक पर काम कर रहे थे, यह अभी भी विकास के अधीन है। यूके की राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा की वेबसाइट पर प्रकाशित एक लेख के अनुसार, 2016 में पुरुष गर्भनिरोधक के लिए एक परीक्षण किया गया था, लेकिन साइड इफेक्ट के कारण इसे रोकना पड़ा। मुंहासे और मूड परिवर्तन जैसे दुष्प्रभाव सामने आए थे।

भारत में 53.5% दंपति गर्भनिरोधक के तरीकों में से कुछ का उपयोग करते हैं, जिसमें स्थायी तरीके जैसे वासेक्टोमी सबसे लोकप्रिय है। राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण-4 (2015-16) के आंकड़ों से पता चलता है। वासेक्टोमी के लिए जाने वाले 0.3% पुरुषों की तुलना में लगभग 36% महिलाएं वासेक्टोमी का विकल्प चुनती हैं। डॉ. आरएस शर्मा का कहना है कि ये गर्भनिरोधक पुरुष इंजेक्शन एक यौगिक से बना है जिसे स्टाइरीन मेनिक एनहाइड्राइड कहा जाता है। यह इंजेक्शन लगाने के बाद कम से कम 13 साल के लिए प्रभावी है। चूहों पर रिसर्च में यह एक विश्वसनीय उत्पाद साबित हुआ और हम जल्द ही मानव रिसर्च की शुरुआत करेंगे ताकि यह साबित हो सके कि मनुष्यों में भी इसे एक प्रभावी रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।

भारत के ड्रग कंट्रोलर वीजी सोमानी ने कहा कि यह भारत से दुनिया में पहला इंजेक्शन है इसलिए हमें अप्रूवल के लिए अतिरिक्त सावधानी बरतनी होगी।हम सभी पहलुओं को देख रहे हैं, विशेष रूप से गुड मैनुफैक्‍‍चरिंग (GMP) सर्टिफिकेट जो इसकी गुणवत्ता के बारे में कोई सवाल नहीं उठा रहा है। सोमानी ने कहा कि उत्पाद के निर्माण से पहले सभी स्वीकृतियों के लिए अभी भी लगभग छह से सात महीने लगेंगे। भारत में नए मेडिकल इनोवेशन के निर्माण, बिक्री और वितरण को DCGI से मंजूरी की आवश्यकता है, जो इसे क्लीयर करने से पहले अपनी जांच करता है।

यूरोलॉजी एंड रीनल ट्रांसप्लांट डिपार्टमेंट, सफदरजंग अस्पताल के प्रमुख डॉ. अनूप कुमार का कहना है कि पुरुष गर्भ निरोधक इंजेक्शन गर्भनिरोधक के रूप में अधिक पसंद किया जाएगा। गैर-सर्जिकल प्रक्रियाओं को हमेशा सर्जिकल प्रक्रियाओं से अधिक पसंद किया जाता है क्योंकि वे सुरक्षित और कम आक्रामक होती हैं इसलिए लोगों के इसके अधिक चयन की संभावना है।

पूर्व परिवार कल्याण सचिव, भारत सरकार एआर नंदा का कहना है कि एक पुरुष गर्भनिरोधक भारत में अच्छा काम कर सकता है, बशर्ते सरकार इसे सार्वजनिक रूप से प्रचारित करे। उन्होंने कहा कि काम करने के लिए सरकार से दो चीजों की जरूरत होती है; एक उत्पाद के बारे में जनता के बीच जागरूकता पैदा करने के लिए परीक्षण विषयों का उपयोग करना और दूसरा पुरुष गर्भ निरोधकों के लिए लोगों को उच्च प्रोत्साहन की पेशकश करना।