ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश अन्य राज्य अंतर्राष्ट्रीय मनोरंजन खेल बिजनेस लाइफस्टाइल आध्यात्म अन्य खबरें
भाई से हुए विवाद में बीच बचाव करने पहुंचे बड़े भाई को दबंगों ने लोहे की रॉड से पीटा, मौत
March 23, 2020 • Edge express • उत्तर प्रदेश

लखनऊ। हसगंज के डालीगंज रेलवे क्रासिंग के पास पान मसाला खरीदने गए भाई से हुए झगड़े में बीच बचाव करने पहुंचे बड़े भाई पर दंबग ने लोहे की वस्तु से हमला कर बुरी तरह से घायल कर दिया। लहुलुहान भाई की इलाज के दौरान बलरामपुर अस्पताल में मौत हो गई।

मृतक की मौत से पहले आरोपी के खिलाफ धारा 308 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था लेकिन उसकी मौत हो गई और अब इन्स्पेक्टर हसनगंज पोस्ट मार्टम रिपोर्ट के आधार पर मुकदमे मे धारा तरमीम करने की बात कह रहे है। छोटे भाई और क्षेत्र के एक दंबग के बीच हो रही मारपीट मे बीच बचाव मे घायल होने के बाद मौत की नींद सोया युवक एसी मैकेनिक है हालाकि विवाद के पीछे युवती से छेड़छाड़ का विरोध करने की बात कही जा रही थी लेकिन पुलिस ने छेड़छाड़ की घटना से इन्कार किया है। पुलिस अभी आरोपी को गिरफ्तार नहीं कर सकी है।

जानकारी के अनुसार एसी मैकैनिक कीर्तन रावत (22) अपनी मां सावित्री रावत और भाई रोहित रावत के साथ हसनगंज थाना क्षेत्र के सीएसअईआर कालोनी निराला नगर में रहता था। गुरूवार की शाम कीर्तन रावत का छोटा भाई रोहित रावत डालीगंज क्रासिंग के पास पान मसाला लेने के लिए गया था जहां किसी बात को लेकर रोहित और फजल उर्फ कटटा सिंह नामक दंबग से गाली गलौच मारपीट होने लगी तभी वहाँ पहुचने कीर्तन ने भाई को पिटता देख बीच बचाव किया तो फजल द्वारा लोहे की किसी भारी वस्तु से कीर्तन के सर पर वार कर दिया गया। फजल के हमले मे कीर्तन लहुलुहान होकर वंही गिर गया। घायल को तत्काल इलाज के लिए बलरामपुर अस्पताल पहुंचाया गया,जहां इलाज के दौरान आज उसकी मौत हो गई। हालाकि पुलिस रोहित और कटटा सिंह के बीच हुए विवाद को मामूली बात पर हुआ विवाद बता रही है लेकिन मारपीट और झगड़े के बाद यहंा चर्चा ज़ोरो पर थी कि रोहित और कटटा सिंह के बीच विवाद छेड़छाड़ की घटना को लेकर हुआ था।

इन्स्पेक्टर हसनगंज का कहना है कि कीर्तन की मौत से पहले कट्टा सिंह के खिलाफ धारा 308/323/504 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था कीर्तन की मौत के बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर कार्यवाही की जाएगी। उन्होने बताया कि आरोपी फजल सिंह उर्फ कट्टा सिंह अभी फरार है।