ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश अन्य राज्य अंतर्राष्ट्रीय मनोरंजन खेल बिजनेस लाइफस्टाइल आध्यात्म अन्य खबरें
चौधरी चरण सिंह ने किसानों की आर्थिक स्थिति सुधारने की चिंता की : अखिलेश यादव
December 23, 2019 • Edge express • उत्तर प्रदेश

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के निर्देश पर आज राजधानी लखनऊ सहित प्रदेश के सभी जनपदों में पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह जी की 117वीं जयंती मनाई गई और उनकी नीतियों पर चलने का संकल्प लिया गया।

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने पार्टी मुख्यालय में श्रद्धेय चौधरी चरण सिंह के चित्र पर तथा विधान भवन परिसर स्थित चौधरी साहब की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित किए। इस अवसर पर अहमद हसन, राष्ट्रीय सचिव राजेन्द्र चौधरी, प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल सहित सैकड़ों कार्यकर्ता मौजूद थे। नेता प्रतिपक्ष विधान परिषद अहमद हसन ने अमौसी स्थित अंतर्राष्ट्रीय हवाई हड्डा परिसर स्थित चौधरी चरण सिंह जी की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया।

इस अवसर पर उपस्थित कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि चौधरी चरण सिंह ने किसानों की आर्थिक स्थिति सुधारने की चिंता की थी। जमींदारी उन्मूलन उनका ऐतिहासिक कदम था जिससे किसानों को भूमि का स्वामित्व मिला था। भाजपा की प्राथमिकता में किसान नहीं, कारपोरेट घराने है। वह बड़े उद्योग घरानों की चिंता करती है। जनता को भ्रमित करना भाजपा का एजेण्डा रहता है। भाजपा नेतृत्व को सच बोलना परहेज है।
 
श्री यादव ने कहा कि भाजपा ने किसानों-नौजवानों के भविष्य को अंधेरे में पहुंचा दिया है। किसानों पर कर्ज है वे बदहाली में आत्महत्याएं कर रहे हैं। उन्हें फसलों के उत्पादन की लागत भी नहीं मिल पा रही है। बुंदेलखण्ड में किसान बर्बाद हैं। बुन्देलखण्ड में ही सैकड़ों किसान तंगहाली और कर्जा के कारण अपनी जाने दें चुके है। श्री यादव ने कहा कि गन्ना, धान, आलू, के किसान परेशान है। गन्ना किसानों का करोड़ों रूपया बकाया है। धान की खरीद नहीं हो रही है। आलू किसान के साथ छल हुआ। भाजपा ने किसानों से वायदा किया था कि उनकी आय दुगनी की जाएगी और कृषि उत्पादों का डेढ़ गुना मिलेगा। भाजपा सरकारों ने वादा भुला दिया। छल कपट की भाजपा राजनीति का ही यह उदाहरण साबित होगा।

अखिलेश यादव ने कहा कि आज के सत्ताधारी भाजपाइयों को अधिकारों का दुरूपयोग करने में कोई संकोच नहीं है। भाजपा मंत्रिमण्डल में भी किसी मंत्री की कोई जिम्मेदारी नहीं है। भाजपा का राज्य मंत्रिमण्डल ''जाॅबलेस'' है। विकास अवरूद्ध है और जनता का कोई काम नहीं हो रहा है। उन्होंने कहा कि असत्य सार्वजनिक जीवन के लिए अवांछनीय है। भाजपा नेतृत्व सच कब बोलेगा? इससे राजनीति की साख को बट्टा लगता है। येनकेन प्रकारेण सत्ता पर कब्जा बनाए रखना लोकतांत्रिक मूल्यों को आघात पहुंचाता है।

कार्यक्रम में फरीद महफूज किदवई, एसआरएस यादव, आनन्द भदौरिया, उदयवीर सिंह, अरविन्द कुमार सिंह, शतरूद्र प्रकाश, राजेश यादव राजू, सुभाष पासी, आशू मलिक, नारद राय, गौरव रावत, के.के. गौतम, अरशद खां, मुशीर अहमद लारी, व्यासजी गोंड, अशोक कुमार गोंड, सुशील दीक्षित, विजय सिंह, राम सागर, मुकेश शुक्ला, नाहिद लारी खान, ताराचंद, एस.के. राय, लल्लन प्रसाद गोंड, पूजा शुक्ला, लक्ष्मी नाथ कश्यप, जयसिंह प्रताप यादव, सागर धानुक, दिनेश यादव, अनूप बारी, वंदना चतुर्वेदी, दिलीप कमलापुरी, संजय सविता विद्यार्थी आदि की उपस्थिति उल्लेखनीय है।