ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश अन्य राज्य अंतर्राष्ट्रीय मनोरंजन खेल बिजनेस लाइफस्टाइल आध्यात्म अन्य खबरें
दिमाग को स्वस्थ रखने के साथ पसीने की बदबू को दूर करती है Black Tea
February 2, 2020 • Edge express • लाइफस्टाइल

अगर आप भी काली चाय का सेवन करते हैं तो आपके लिए एक बड़ी खुशखबरी है. अगर आप रोज एक कप काली चाय का सेवन करते हैं तो आपको डिमेंशिया और अल्जाइमर होने का खतरा कम होता है. हाल में ही हुए एक शोध में यह बात समाने आई कि काली चाय में प्रचुर मात्रा में फ्लेवेनाल्स पाए जाते हैं. ये एक ऐसा पोषक तत्व होता है जो दिमाग को स्वस्थ रखने में मदद करता है.

उम्रदराज लोगों पर की स्टडी:
इस सिलसिले में शिकागो की रस यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने 921 उम्रदराज लोगों पर अध्ययन किया. 12 सालों तक इनपर नजर राखी गई और इनके खानपान के बारे में जानकारी ली गई. शोध में यह बात सामने आई कि जिन लोगों ने अधिक मात्रा में फ्लेवेनाल्स का सेवन किया यानि कि दिन में लगभग एक कप चाय पी, उन्हें डिमेंशिया या अल्जाइमर होने का खतरा करीब 50 फीसदी से भी कम पाया गया. काली चाय के अलावा जैतून के तेल, नाशपाती, संतरा और ब्रोकली में भी भरपूर मात्रा में फ्लेवेनाल्स पाए जाते हैं. ये पोषक तत्व भूलने की बीमारी ‘डिमेंशिया’ से बचाव करते हैं.

इस चीजों में इस मात्रा में पाया जाता है फ्लेवेनाल्स:
एक कप काली चाय में 15.3 मिलीग्राम फ्लेवेनाल्स पाया जाता है.
केंपफरोल 51 फीसदी तक डिमेंशिया के खतरे को कम करता है.इसोरहैमिनेटिन 38 प्रतिशत तक डिमेंशिया के खतरे को कम करता है.

काली चाय पीने के ये फायदे जानते हैं आप:

1.इम्युनिटी पॉवर बढ़ाती है काली चाय: काली चाय में एंटी-ऑक्सीडेंट प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं. ये शरीर की इम्युनिटी पॉवर बढ़ाने में मदद करते हैं. ऐसा होने से शरीर की बीमारियों से लड़ने की क्षमता काफी हो जाती है और सेहत बेहतर होती है.

2.विषैले तत्वों को शरीर से निकालती है: काली चाय में पाए जाने वाले एंटी-ऑक्सीडेंट शरीर में मौजूद विषैले तत्वों को बाहर निकलने में मदद करते हैं. ऐसे में बढ़ती उम्र का असर आपके चेहरे पर नजर नहीं आता है.

3.पसीने की बदबू को करती है दूर: काली चाय पीने से पसीने की बदबू से भी निजात मिलती है. दरअसल, काली चाय में ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो उन बैक्टीरिया को ग्रो नहीं करते देते हैं जो पसीने की बदबू का कारन होते हैं.