ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश अन्य राज्य अंतर्राष्ट्रीय मनोरंजन खेल बिजनेस लाइफस्टाइल आध्यात्म अन्य खबरें
एक्यूआई 'बेहद खराब' से 'मध्यम श्रेणी' में पहुंची, दिल्ली की हवा में सुधार
December 14, 2019 • Jyoti Singh • अन्य राज्य

राष्ट्रीय राजधानी में शनिवार को एयर क्वालिटी इंडेक्स (एक्यूआई) काफी बेहतर होकर 'बेहद खराब' से 'मध्यम' श्रेणी में पहुंच गया। एक्यूआई शनिवार सुबह नौ बजकर 45 मिनट पर 179 रहा जबकि शुक्रवार सुबह यह 316 रहा। एक्यूआई गाजियाबाद में 264, ग्रेटर नोएडा में 241, नोएडा में 254 और गुड़गांव में 165 दर्ज किया गया।

वायु गुणवत्ता सूचकांक 0-50 श्रेणी में 'खराब', 51-100 में 'संतोषजनक', 101-300 में 'मध्यम', 201-300 में 'खराब', 301-400 में 'बेहद खराब' और 401-500 में 'गंभीर' माना जाता है। वहीं, 500 से ऊपर के एक्यूआई को 'अति गंभीर' श्रेणी में माना जाता है। मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार अधिकतम तापमान सामान्य से दो डिग्री कम 12 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

आपको बता दें कि वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) शून्य से 50 को 'अच्छा' माना जाता है जबकि 51 से 100 को 'संतोषजनक', 101 और 200 को 'सामान्य', 201 और 300 को 'खराब', 301 और 400 को 'बेहद खराब' और 401 और 500 को 'गंभीर' माना जाता है।

प्रदूषण से बचने के लिए क्या करें-

  • जरूरत पड़ने पर ही घर से बाहर जाएं।
  • घर के अंदर ही व्यायाम करें।
  • घर से बाहर जाते समय पर मास्क जरूर लगाएं।
  • ज्यादा से ज्यादा पानी पिएं ताकि शरीर में ऑक्सीजन की सप्लाई बनी रहे।
  • खाने में विटामिन सी की मात्रा अधिक रखें।
  • अस्थमा के मरीज दवा अपने साथ जरूर रखें।
  • पास की ही मार्केट जाना है तो कार या बाइक के बजाय पैदल ही जाएं।
  • जब संभव हो अपनी साईकिल से बाहर जाएं।
  • जितना संभव हो सार्वजनिक वाहनों का इस्तेमाल करें।
  • निजी वाहनों के बदले स्कूल जाने के लिए स्कूल बस का इस्तेमाल करें।
  • ऑफिस या काम पर जाने के लिए कार पूलिंग करें।
  • घर में ऐरोसॉल का कम से कम इस्तेमाल करें।
  • घर के आसपास अधिक से अधिक पौधे लगाएं।
  • अगर लाइट और पंखों का इस्तेमाल नहीं है तो उन्हें बंद कर दें। कम से कम लाइट्स, पंखे, एयरकंडीशन, गीजर और कूलर चलाएं। चार कमरों में चलाने के बजाय एक ही कमरे में चलाएं।
  • अपने बगीचे में सूखी पत्तियां ना जलाएं बल्कि उनका खाद की तरह इस्तेमाल करते हुए गड्ढे में गाढ़ दें।
  • अपने वाहनों का समय-समय पर पॉल्यूशन चैक करवाए।
  • अनलीडिड पैट्रोल का इस्तेमाल करें।