ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश अन्य राज्य अंतर्राष्ट्रीय मनोरंजन खेल बिजनेस लाइफस्टाइल आध्यात्म अन्य खबरें
कठिन से कठिन परिस्थिति से निपटने हेतु रहना होगा तैयार : मंडलायुक्त
April 25, 2020 • Edge express • उत्तर प्रदेश

औरैया। जनपद के नोडल अधिकारी मंडलायुक्त कानपुर डॉ. सुधीर एम बोबडे एवं आई जी कानपुर रेंज मोहित अग्रवाल ने देवकली स्थित पीडब्ल्यूडी गेस्ट हाउस में जिलाधिकारी पुलिस अधीक्षक, मुख्य चिकित्सा अधिकारी  व अन्य सभी महत्वपूर्ण अधिकारियों के साथ बैठक कर जनपद में कोरोना से निपटने हेतु चल रही तैयारियों और गतिविधियों को लैकर बैठक की।  मंडलायुक्त एवं आईजी ने सभी अधिकारियों से कहा कि हम सभी को कठिन से कठिन परिस्थिति के लिए तैयार रहना चाहिए। हमें हर परिस्थिति के लिए तैयार रहना होगा तभी इस कोरोना - 19 महामारी को हराया जा सकता है। उन्होंने पुलिस अधीक्षक व समस्त सीओ को निर्देश दिए कि जनपद में पूरी सख्ती से लॉकडाउन को लागू किया जाए इसमें जरा सी भी ढील बहुत बड़ी मुसीबत खड़ी कर सकती है। 

मंडलायुक्त ने जिलाधिकारी अभिषेक सिंह को निर्देशित करते हुये कहा कि घटतौली या कालाबाजारी करने वाले कोटेदारों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए। जनपद में कहीं भी शराब  नहीं बिकनी  चाहिए यदि कोई शराब बेचता है तो उसके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई अमल में लाई जाए। मंडलायुक्त ने कहा कि सभी आवश्यक वस्तुओं एवं सेवाओं से संबंधित दुकानों को खोलने की अनुमति  समय निर्धारित करते हुए दी जाए। सभी आटा चक्की की दुकानों को खोलने की अनुमति दी जाए। जनपद के कंट्रोल रूम को निरंतर चालू रखा जाए जिससे कि लोगों की समस्याओं का तत्काल हल हो सके। सभी हॉटस्पॉट एरिया में सभी हेल्पलाइन नंबर को प्रदर्शित किया जाए जिससे कि वहां के लोग किसी भी समस्या पर प्रशासन से संपर्क कर सकें। साथ ही उन्होंने कहा कि जरूरतमंदों को भोजन उपलब्ध कराने हेतु संचालित कम्युनिटी किचन में पर्याप्त मात्रा में भोजन तैयार किया जाए जिससे कि कोई भी जरूरतमंद भोजन से वंचित ना रहे। यदि इस संबंध में बजट की कमी हो तो शासन से  बजट की मांग कर ली जाए।
 
मंडलायुक्त ने जिलाधिकारी से कहा कि कोविड - 19 से निपटने हेतु औरैया की तैयारियां कई अन्य जनपदों से बेहतर हैं। जिलाधिकारी अभिषेक सिंह ने आश्वासन देते हुए कहा जनपद में पहले से ही काफी तैयारी की गई है और अब आप द्वारा दिए हुए सभी निर्देशों का अक्षरशः पालन कराया जाएगा। 

जनपद के सभी बॉर्डर किए जाएं सील

मंडलायुक्त ने जिलाधिकारी से कहा कि जनपद के सभी बॉर्डर  पूर्ण रूप से सील कर दिये जाए। किसी भी बाहरी व्यक्ति को जनपद में प्रवेश ना दिया जाये जब तक कि वह कोई वैध पास लेकर ना आए। यदि जनपद का कोई व्यक्ति किसी अन्य  जनपद में  स्वास्थ्य सम्बन्धी इलाज हेतु जाना चाहता है  तो उसे ई पास जारी किया जाए। जिस पर जिलाधिकारी ने कहा कि ऐसे सभी व्यक्तियों को ऑनलाइन पास जारी किए जा रहे हैं अभी तक जनपद में 500 से अधिक पास जारी किए गए हैं। इसके अलावा जो व्यक्ति वापस जनपद आता है उसका स्वास्थ्य परीक्षण कराया जाता है और उसे कोरन्टाइन में रखा जाता है। 

कोरोना मरीज की मृत्यु होने पर बरती जाए विशेष सावधानी

मंडलायुक्त ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी  अर्चना श्रीवास्तव से कहा कि प्राइवेट अस्पतालों के साथ बैठक कर उन्हें निर्देश दिए जाये कि वह अपने यहां आने वाले मरीजो की जानकारी प्रशासन को दें एवं एवं टी बी मरीजों के सैंपल को सुरक्षित रखा जाए। मण्डलायुक्त ने सीएमओ से कहा यदि कोई गर्भवती महिला जो कि कोरोना संदिग्ध है प्रसव हेतु अस्पताल आती है तो सावधानी बरतते हुये किस तरह से उसका प्रसव कराना है। इस आपात स्थिति से निपटने हेतु अभी से तैयारी कर ली जाए। साथ ही उन्होंने कहा कि यदि किसी कोरोना संक्रमित व्यक्ति की जनपद में मृत्यु हो जाती है तो उस परिस्थिति में स्वास्थ्य कर्मचारियों द्वारा क्या करना है और क्या नहीं करना है। किन किन सावधानियों का ध्यान रखना है, इस संबंध में शासन द्वारा दिशा निर्देश जारी किए गए हैं उन्हें अच्छे से पढ़ लीजिए। आपात स्थिति में उसी के अनुसार कार्रवाई की जाए। आईजी मोहित अग्रवाल ने कहा कि यदि किसी कोरोना संदिग्ध  की मृत्यु हो जाती है तो उसका भी सैंपल लिया जाए और सावधानी बरती जाए। 

घर के अंदर हो रमज़ान सम्बंधी धार्मिक गतिविधियां 

रमजान के सम्बन्ध में नोडल अधिकारियों ने पुलिस अधीक्षक से कहा कि सभी मुस्लिम नागरिकों और धर्मगुरुओं को स्पष्ट निर्देश दे दिये जायें कि कोई भी व्यक्ति अपने घर के बाहर रोजा इफ्तार न करे एवं किसी बाहरी व्यक्ति को रोजा इफ्तार पार्टी में शामिल न करे। नमाज आदि घर पर ही अदा की जाये। सभी पुलिस अधिकारी फ्लैग मार्च कर लोगों को सावधानी बरतने एवं उनका पालन करने की अपील करें। 

मंडियों में कराया जाए सोशल डिस्टेंसिंग का पालन

मंडलायुक्त ने जिलाधिकारी से कहा कि वे सभी एसडीएम को निर्देश जारी करें कि मंडियों में सोशल डिस्टेंसिंग का पूर्णतः पालन किया जाए और किसी भी तरह की कोई भी भीड़ इकट्ठी ना होने पाए। प्रायः देखा गया है कि कोरोना संक्रमण मंडियों से फैलने का खतरा रहता  है अतः इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही न बरती जाए।

रिपोर्ट-अनुपमा सेंगर