ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश अन्य राज्य अंतर्राष्ट्रीय मनोरंजन खेल बिजनेस लाइफस्टाइल आध्यात्म अन्य खबरें
फिक्की ने यूपी टूरिज्म पर कोविड-19 के प्रभाव को कम करने पर चर्चा के लिए एक वेबिनार का आयोजन किया
April 23, 2020 • Edge express • उत्तर प्रदेश

लखनऊ। फेडरेशन ऑफ इंडियन चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (फिक्की) ने नॉलेज पार्टनर, एर्न्स्ट और यंग एवं पीआर पार्टनर कैवल्य कम्युनिकेशन के साथ मिलकर यूपी टूरिज्म पर कोविड-19 के प्रभाव को कम करने पर चर्चा के लिए 22 अप्रैल 2020 को एक विशेष वेबिनार का आयोजन किया।

इस चर्चा में आईएएस प्रमुख सचिव पर्यटन विभाग उत्तर प्रदेश सरकार जितेंद्र कुमार सहित सचिव पर्यटन विभाग, संस्कृति और धार्मिक मामले और पर्यटन विभाग उत्तर प्रदेश के डीजी रविकुमार एनजी, फिक्की के सदस्य और तोरणों के सीईओ लखनऊ प्रतीक हिरका, रूबरू वॉक के पार्टनर आयुष राठी, संस्कृति ट्रेवल्स के सीएमडी राजीव सक्सेना, जेपी होटल्स एंड रिजॉर्ट के वाइस प्रेसीडेंट ऑपरेशंस हरि सुकुमार, लेबुआ होटल्स इंडिया के सीएमडी मोहम्मद अब्दुल्ला, एटर्नल वेकेशन्स आगरा के सीएमडी, रजत भखरी, मेकमाईट्रिप.कॉम के डायरेक्टर -रिटेल और डिस्ट्रीब्यूशन कमलदीप त्रिपाठी, अर्नेस्ट एंड यंग एलएलपी के इकोनॉमिक डेवलपमेंट एंड इंफ्रास्ट्रक्चर एडवाइजरी के पार्टनर और लीडर आदिल जैदी और फिक्की यूपी स्टेट काउंसिल के सह अध्यक्ष अमर तुलसियान ने वेब के माध्यम से आयोजित चर्चा में उपस्थित रहे।

उत्तर प्रदेश सरकार के प्रमुख सचिव पर्यटन विभाग आईएएस जितेंद्र कुमार ने बताया कि, “आज उद्योग द्वारा जिन चुनौतियों का सामना किया जा रहा है, निश्चित रूप से सरकार के समर्थन के बिना पर्यटन उद्योग उनका सामना नहीं कर सकतें हैं। सरकार का रेवेन्यू पार्ट भी इस संकट के कारण डूबा हुआ है लेकिन सरकार पर्यटन क्षेत्र को जीवित रहने में मदद करने का आश्वासन देती है। इस चर्चा ने हमें बहुत सारे दृष्टिकोण और सुझाव दिए हैं। हम यहां तक कि कोविड -19 की इस संकट की घड़ी में #स्टेहोमटुडेट्रैवेलटुमारो के साथ पर्यटन उद्योग के साथ कुछ आशा और सकारात्मकता लाने के लिए सोशल मीडिया रेवल्यूशन के साथ एक हैशटैग लेकर आए हैं।

इस लॉकडाउन के चलते हम दशहरा के सीजन से पहले पर्यटन उद्योग को फिर से पहले की तरह काम करते हुए देखने के लिए तैयार नहीं हैं। इसलिए, सरकार पर्यटन क्षेत्रों के पक्ष में पहल सुनिश्चित कर रही है और हम उन सभी 4 पहलुओं पर काम कर रहे हैं जो परिचालन, विपणन, नियामक और राजकोषीय हैं। तब तक, यूपी में धार्मिक और विरासत पर्यटन को बढ़ावा दिया जा सकता है।”

सेक्रेटरी टूरिज्म, कल्चर एंड रिलिजियस अफेयर्स एंड डीजी टूरिज्म-प्रदेश सरकार रविकुमार एन.जी ने कहा कि, "सबसे पहले, हमें लोगों के मनोविज्ञान को समझने की जरूरत है कि कोविड -19 के खत्म होने के बाद वे किस प्रकार से यात्रा के बारे में सोचेंगे। इस स्थिति को हमें अवसर के रूप में उपयोग करने की आवश्यकता है। हमें घर बैठे लोगों का ध्यान केंद्रित करते हुए ये सुनिश्चित करना चाहिए कि घरेलू पर्यटन बढ़े और लोग कुछ दूरी तक की यात्रा कर सकें। यूपी पर्यटन का सबसे अच्छा पहलू यह है कि हमारे पास धार्मिक स्थानों पर जाने वालों की संख्या अच्छी है। हमें इन धार्मिक स्थानों की देखभाल करने और यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि सामाजिक दूरी को कैसे बनाए रखा जाए। लॉकडाउन के तुरंत बाद यह सुनिश्चित करते हुए कि जो रेस्टोरेन्ट खुल रहे हैं, वहां मिलने वाला खाना पूरी तरह से स्वच्छ है काफी मददगार साबित होगा।"