ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश अन्य राज्य अंतर्राष्ट्रीय मनोरंजन खेल बिजनेस लाइफस्टाइल आध्यात्म अन्य खबरें
रिपोर्ट निगेटिव आने पर लोगों को होम क्वॉरेंटाइन किया जाए : अभिषेक सिंह 
June 2, 2020 • Edge express • उत्तर प्रदेश

औरैया। कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने के लिए जनपद में बनाए गए शेल्टर हाउस (आश्रय स्थल) की हकीकत परखने के लिये जिलाधिकारी लगातार निरीक्षण कर रहे है। इसी क्रम में मंगलवार को जिलाधिकारी अभिषेक सिंह ने बिधूना पहुंचकर खुशी गेस्ट हाउस शेल्टर हाउस का निरीक्षण किया और वहां ठहरे लोगों का हाल चाल जाना और उन्हें मिल रही सुविधाओं का जायजा लिया। मौके पर उपस्थित एसडीएम राशिद अली खान ने जानकारी देते हुए बताया कि इस वक्त शेल्टर हाउस में कुल 35 लोगों को इंस्टीट्यूशनल क्वॉरेंटाइन किया गया है जिसमें से 30 लोगों की रिपोर्ट प्राप्त हो चुकी जोकि नेगेटिव है शेष पांच लोगों की रिपोर्ट आना अभी बाकी है। 

जिलाधिकारी ने कहा कि पांच लोगों की रिपोर्ट और आ जाए इसके बाद स्वास्थ्य टीम की परामर्श लेकर सभी नेगेटिव रिपोर्ट वालों को होम क्वॉरेंटाइन हेतु घर भेज दिया जाये। जिन लोगों को होम क्वॉरेंटाइन हेतु निर्देश दिए जाये यदि वह लोग निर्देशों का उल्लंघन करते हैं तो उन्हें नोटिस जारी किया जाए। इसके बाद भी यदि वे नियमों का उल्लंघन करते है तो उन्हें इंस्टिट्यूशन क्वॉरेंटाइन किया जाए और उन पर कानूनी कार्रवाई की जाये। इसके अलावा जिलाधिकारी ने एसडीएम को निर्देश दिए कि शेल्टर हाउस में उचित साफ-सफाई बनाई रखी जाए एवं यहां ठहरे सभी लोगों को उनकी मात्रा के अनुसार भोजन पानी आदि उपलब्ध कराना सुनिश्चित किया जाये। उनकी सभी मूलभूत सुविधाएं का ख्याल रखा जाये। इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही न बरती जाये। 

इसके बाद उन्होंने दिबियापुर सीएचसी में बने कोविड-19 एल वन हास्पिटल पहुंचकर वहां चल रहे कोरोना पॉजिटिव मरीजों के सामान्य इलाज के बारे में डाक्टरों से जानकारी ली। सीएचसी प्रभारी डॉ जितेंद्र ने बताया कि इस वक्त अस्पताल में 26 कोरोना पॉजिटिव मरीजों का सामान्य इलाज चल रहा है। और आज इनमें से 6 लोगों के सैंपल जांच के लिये भेजे गये है। जिलाधिकारी ने सीएचसी प्रभारी को निर्देश दिए कि अस्पताल में उचित साफ-सफाई बनाए रखी जाए एवं स्वास्थ्य  टीम कोरोना पॉजिटिव मरीजों लगातार देखभाल करती रहे। समय समय पर उनकी सैंपलिंग की जाए। मरीजों के खाने-पीने आदि की उचित व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। मरीजों को किसी प्रकार की कोई असुविधा न हो यह विशेष रुप से ध्यान दिया जाए।

रिपोर्ट-अनुपमा सेंगर