ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश अन्य राज्य अंतर्राष्ट्रीय मनोरंजन खेल बिजनेस लाइफस्टाइल आध्यात्म अन्य खबरें
रोज शाम को करें वॉक, मिलते है ये जबरदस्त फायदे...
December 23, 2019 • Jyoti Singh • लाइफस्टाइल

यह तो हम सभी जानते हैं कि वॉक करना शरीर के लिए काफी अच्छा है और इसे किसी भी उम्र के लोग बेहद आसानी से कर सकते हैं। आमतौर पर बुजुर्ग लोगों के लिए तरह-तरह की एक्सरसाइज करना संभव नहीं होता। ऐसे में वह वॉक करके खुद को फिट रख सकते हैं। यूं तो सुबह के समय सैर करना काफी अच्छा माना जाता है, लेकिन आप सुबह के समय वॉक नहीं कर पाते हैं तो हर दिन शाम को वॉक करने का नियम बनाएं। तो चलिए आज हम आपको शाम की सैर से होने वाले फायदों के बारे में बता रहे हैं-

मिलता है आराम
दिनभर काम करने के बाद जब आप रात में एक वॉक लेंगे तो यकीनन आप खुद को मेंटली काफी रिलैक्स महसूस करेंगे। यही एक समय है, जब आप महज 30 मिनट वॉक लेकर अपनी शारीरिक व मानसिक थकान को आसानी से दूर कर सकते हैं।

होगा पाचन आसान
अधिकतर घरों में देखने में आता है कि लोग खाना खाने के तुरंत बाद सो जाते हैं। जिसके कारण उनका भोजन सही तरह से पच नहीं पाता और उन्हें कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ता है। लेकिन वहीं दूसरी ओर अगर आप भोजन के कुछ देर बाद शाम को टहलते हैं, जो इससे आपका खाना भी आसानी से पच जाता है और आपके पाचनतंत्र पर अतिरिक्त दबाव भी नहीं पड़ता।

हाई ब्लड प्रेशर से आराम
आपको शायद पता ना हो लेकिन शाम की सैर आपके ब्लड प्रेशर को भी रेग्युलेट करने में मदद करती है। अगर आप हाइपरटेंशन या हाई ब्लड प्रेशर से पीडि़त हैं तो आपको शाम की सैर जरूर करनी चाहिए। इससे आपका शरीर व दिमाग रिलैक्स महसूस करता है और आपका ब्लड प्रेशर लेवल में रहता है।

वजन कम करने में सहायक
शाम के समय ब्रिस्क वॉक करना अतिरिक्त वजन को कम करने में काफी सहायक है। अगर आप वजन कम करना चाहते हैं और जिम में मेहनत करना या समय खर्च करना आपके लिए संभव नहीं है तो आप शाम के समय ब्रिस्क वॉक करने का नियम बनाएं। आपको कुछ ही दिनों में असर नजर आने लगेगा।

डिप्रेशन रहेगा दूर
जब आप एक लंबे व तनाव भरे दिन के बाद वॉक करते हैं तो इससे आपको काफी रिलैक्स महसूस होता है और आप सारी नकारात्मकता को खुद से दूर रख पाते हैं। जब आपका माइंड शांत होता है, तब आप खुद को खुश व पॉजिटिव महसूस करते हैं। इतना ही नहीं, इससे आपको डिप्रेशन होने का खतरा भी काफी हद तक कम हो जाता है।