ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश अन्य राज्य अंतर्राष्ट्रीय मनोरंजन खेल बिजनेस लाइफस्टाइल आध्यात्म अन्य खबरें
शादी में होने वाले इस रस्म के कारण जान रह जाएंगे हैरान...
November 19, 2019 • Jyoti Singh • आध्यात्म

क्या आप जानते है कि शादी में हल्दी समारोह की रस्म क्यों होती है? शादी में ही नहीं बल्कि असल जीवन में भी हल्दी बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि ये सेहत से जुड़ी है, लेकिन शादियों में हल्दी का अलग तरह से महत्व है। ऐसा माना जाता है कि हल्दी संरक्षण का प्रतीक है, इसलिए शादी की रस्मों के दौरान इसका उपयोग करना आवश्यक होता है। आइये जानते हैं इसके पीछे के रहस्यों के बारे में-

  • विशेषज्ञों के अनुसार, हल्दी को शरीर के लिए एक बेहतरीन क्लीन्ज़र माना जाता है। यह दुल्हन को नई राह दिखाने और विवाहित जीवन में स्वागत करने का संकेत देता है। यूं भी हल्दी लगाने की रस्म शुभ मानी जाती है।
  • हल्दी को नए जोड़े और स्वस्थ वैवाहिक जीवन के लिए आशीर्वाद का प्रतीक माना जाता है। भारतीय संस्कृति के अनुसार, घर की सभी विवाहित महिलाएं दूल्हा और दुल्हन को हल्दी लगाती हैं। यह उन्हें लंबे और स्वस्थ रिश्ते के साथ आशीर्वाद देने का एक तरीका माना जाता है।
  • हल्दी त्वचा को चमकदार बनाने के लिए जानी जाती है। दुल्हा-दुल्हन की त्वचा को निखारने के लिए हल्दी का उपयोग किया जाता है। हल्दी का उपयोग मृत त्वचा कोशिकाओं को हटाने में भी मदद करता है जो आपको आपकी त्वचा को चमकदार बनाता है।
  • विशेषज्ञों के अनुसार, हल्दी को पवित्र वैवाहिक जीवन में प्रवेश करने वाले व्यक्तियों के शरीर को शुद्ध करने के लिए जाना जाता है। इसके अलावा यह एक नए जीवन की शुभ शुरुआत का भी संकेत करता है।
  • माना जाता है कि हल्दी का उपयोग दुल्हन और दूल्हे को किसी भी बुरे शगुन से बचाएगा, जो उनके जीवन के सबसे बड़े दिन से पहले आ सकता है। यही कारण है कि दुल्हनों को उनके मेहंदी और हल्दी समारोह के बाद घर से बाहर जाने नहीं दिया जाता।
  • ये भी मान्यता है कि हल्‍दी का उपयोग करने से शादी से पहले के झगड़ों पर अंकुश लगाने में मदद मिलती है। चूंकि हल्दी में एक सक्रिय यौगिक है जिसे कर्क्यूमिन के रूप में जाना जाता है, यह सिरदर्द और चिंता के लिए एक प्राकृतिक उपचार के रूप में कार्य करता है।