ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश अन्य राज्य अंतर्राष्ट्रीय मनोरंजन खेल बिजनेस लाइफस्टाइल आध्यात्म अन्य खबरें
यूपी महोत्सव की छठी सांस्कृतिक संध्या बाॅलीवुड व भोजपुरी गीतों के नाम रही...
December 30, 2019 • Jyoti Singh • उत्तर प्रदेश

लखनऊ। प्रगति पर्यावरण संरक्षण ट्रस्ट के तत्वावधान में सेक्टर ओ पोस्टल ग्राउण्ड अलीगंज में चल रहे '12वें यूपी महोत्सव' की आज की छठी सांस्कृतिक संध्या में बाॅलीवुड नृत्य व भोजपुरी गीतों ने समां बांधा। इस अवसर पर "प्रगति पर्यावरण संरक्षण समिति" के अध्यक्ष विनोद कुमार सिंह और एनबी सिंह ने मुख्य अतिथि विश्व भूषण मिश्र- एडीम प्रशासन लखनऊ को 12वें यूपी गौरव सम्मान से सम्मानित किया।

संगीत से सजे कार्यक्रम का आरम्भ हीरेन्द्र सिंह और स्वाति सिंह के निर्देशन में स्नेह लक्ष्मी व वैष्णवी सिंह ने ए गिरी नत्दिनी पर आकर्षक नृत्य प्रस्तुत कर दर्शकों को मंत्रमुग्ध किया। मनीषा रावत ने राधा नाचेगी और रचना ने आंखों का काजल गीत पर मोहक बॅलीवुड नृत्य की मनोरम छटा बिखेरी। इसके अलावा गौरी, वैष्णवी, श्रेया, दीप्ती, स्नेह लक्ष्मी, रचना, रीतु, देवी, शिवानी, मनीषा, मधु ने राज्स्थानी घूमर नृत्य की आकर्षक छटा बिखेरी। कार्यक्रम में वीना वर्मा ने बाॅलीवुड नम्बर की आकर्षक प्रस्तुति दी।

संगीत से सजे कार्यक्रम के अगले सोपान में भोजपुरी गायिका प्रिया पाल ने अपनी पुरकशिष आवाज में भोजपुरी गीतों को सुनाकर श्रोताओं का दिल जीता। भोजपुरी नाइट्स की इस संध्या में प्रिया पाल ने अपनी सुमधुर आवाज में नीमिया की डार मइया, सही आरती उतारो सीयाराम की जैसे अन्य भोजपुरी गीतों को देर रात तक सुनाकर अपने साथ खूब झुमाया-नचाया। इसके अलावा आज दोपहर में यूपी टैलेन्ट हन्ट के तहत बच्चों व युवाओं ने चित्रकला, रंगोली, निबन्ध और सामान्य ज्ञान की प्रतियोगिता में अपनी रचनात्मक और कलात्मकता का परिचय दिया।

समारोह में यूपी महोत्सव की सांस्कृतिक सचिव सीमा गुप्ता के निर्देशन में राष्ट्रीय शिक्षा जागरूकता काव्य सममेलन का आयोजन किया गया, जिसमें प्रदीप बहराच, ताराचन्द्र तन्हा, निरूपमा श्रीवास्तव, गितिका श्रीवास्तव और सीमा गुप्ता ने शिक्षा जागरूकता पर काव्य पाठ किया। इस अवसर पर शिक्षा, धन सबसे बड़ा विषय पर गितिका चर्तुवेदी ने अपने विचार व्यक्त किये। वहीं दूसरी ओर फिट इंडिया हैप्पी नेशन विषय पर इग्नू की क्षेत्रिय सहायक निदेशिका डाॅ.कीर्ति विक्रम सिंह, मुकेश सिेह, सीमा गुप्ता और गितिका चर्तुवेदी ने अचने विचार व्यक्त किये।